Skip to content

Archive for July, 2012

14
Jul

मेरी प्यारी मंजिल

मेरी प्यारी मंजिल,
हर सुबह उठ वही सपना देखता हूँ,
फिर कुछ मील उस ओर चलता हूँ;
कल सुबह फिर वही सपना देखूंगा मैं,
मंजिल कब तक दूर रह पाओगी तुम,
बाँहों में तुम्हे जल्द ही भरूँगा मैं।
तुम्हारा ही लाल 🙂

Share to Facebook